Nano Particle Seed: आईआईटी कानपुर ने बनाया गेहूं का नैनो पार्टिकल सीड, न ज्यादा खाद की जरूरत पड़ेगी न पानी की

Nano Particle Seed: आईआईटी कानपुर की इनक्यूबेटेड कंपनी एलसीबी फर्टिलाइजर ने गेहूं का नैनो कोटेड पार्टिकल सीड तैयार किया है। बुआई के बाद 35 दिन तक पानी की जरूरत नहीं पड़ेगी। साथ ही भीषण गर्मी में भी फसल खराब नहीं होगी। एलसीबी कंपनी ने अभी गेहूं के बीज पर प्रयोग किया है, जो सफल रहा है।

इस साल यह बीज प्रदेश के 35 जिलों में बोया जाएगा। गेहूं के बीजों को नैनो पार्टिकल्स और सुपर अब्सॉर्बेंट पॉलीमर से कोट किया गया है।

कंपनी के इंक्यूबेटर अक्षय श्रीवास्तव ने बताया कि गेहूं पर जो पॉलीमर का लेप किया गया है, वह 268 गुना ज्यादा पानी सोखता है और उसे 35 दिन तक भिगो कर रखता है.

इसके बाद धीरे-धीरे पानी छोड़ दें। साथ ही जिंदा बैक्टीरिया का कॉम्बिनेशन भी दिया जाता है। इसकी मदद से वह खाद बना लेगी और बार-बार खाद डालने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

खाद में ऑर्गेनिक नैनो पार्टिकल्स का इस्तेमाल किया गया है, जो 78 डिग्री तापमान में भी बैक्टीरिया को जीवित रखते हैं।

120-150 दिन में फसल तैयार हो जाएगी

इस बीज के प्रयोग से उपज में 15 प्रतिशत की वृद्धि, सिंचाई में 33 प्रतिशत की कमी तथा लागत में 48 प्रतिशत की कमी होती है। अक्षय ने बताया कि सामान्य गेहूं की फसल 120-150 दिन में तैयार हो जाती है।

इसमें तीन से चार सिंचाइयों की आवश्यकता होती है। इसमें सिर्फ दो सिंचाई में भी काम किया जा सकता है। यूपी के 35 जिलों के अलावा बिहार, झारखंड में भी इस पर काम हो रहा है.

तैयार पानी का कैप्सूल

अक्षय ने बताया कि इस तकनीक से एक कैप्सूल भी तैयार किया गया जो 35 दिनों तक आपके पौधों को पानी देता रहेगा. पानी के साथ पोषक तत्व भी मिलते रहेंगे। इसकी मदद से आप बेफिक्र होकर कहीं भी जा सकेंगे।

Leave a Comment