Sukar Palan 2023 : कम समय में कमाना चाहते हैं लाखों तो करें सुअर पालन का बिजनेस, होगी खूब कमाई

Sukar Palan 2023 : भारत में गाय-भैंस, भेड़, मुर्गी पालन के साथ-साथ सुअर पालन का चलन भी बहुत बढ़ गया है। छोटे और सीमांत किसानों के लिए सुअर पालन एक लाभदायक व्यवसाय साबित हो रहा है।

सूअर के मांस की मांग भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। इसका उपयोग उत्पादों और दवाओं में किया जाता है।

सूअर के मांस में बहुत सारा प्रोटीन होता है। यही कारण है कि भारत में किसानों ने सुअर पालन की ओर रुख किया है।

अगर आप भी कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो सुअर पालन की शुरुआत कर सकते हैं. आइए जानते हैं सुअर पालन की पूरी जानकारी।

सुअर पालन के लिए आवास प्रबंधन और उपयुक्त जलवायु

व्यावसायिक रूप से सुअर पालन के लिए बड़े फार्म की आवश्यकता होती है। जिसमें हवा, पानी, रोशनी की समुचित व्यवस्था हो। नर, मादा और शावकों के लिए अलग-अलग बाड़े बनाए गए हैं।

Goat Farming Loan 2023: बकरी पालन के लिए ऐसे मिलता है लोन, होगी जबरदस्त कमाई, सरकार भी करेगी मदद

सुअर पानी से प्यार करने वाला जानवर है। इसकी खेती के लिए आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है। 15 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान काफी अनुकूल होता है। सूअरों के लिए तालाब जैसे बाड़े भी बनाए गए हैं।

सुअर पालन के लिए चारा प्रणाली

सूअरों के चारे के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है। सूअर बासी, अनाज, चारा, कूड़ा करकट, सब्जी, सड़ा हुआ भोजन बड़े चाव से खाते हैं।

लेकिन गर्भवती महिलाओं और शावकों के समुचित विकास के लिए अधिक प्रोटीन युक्त भोजन की आवश्यकता होती है, इसके लिए मकई, मूंगफली की खली, गेहूं का चोकर, मछली का पाउडर, विटामिन, खनिज लवण और नमक का मिश्रण दिया जा सकता है।

सुअर की नस्लें

सूअरों की कई नस्लें पाई जाती हैं। जिसमें हाईब्रिड नस्लें व्हाइट यॉर्कशायर, लैंड्रेस, हैम्पशायर, ड्यूरोक और घुंघरू हैं।

इनमें घुंघरू नस्ल की सब्जियां तेजी से विकसित होती हैं। इनका रंग काला और त्वचा मोटी होती है। सफेद यॉर्कशायर प्रजनन के मामले में एक उन्नत नस्ल है। यह एक बार में 6 से 7 शावकों को जन्म देती है।

इसके नर सुअर का वजन 300-400 किलोग्राम और मादा सुअर का वजन 230-320 किलोग्राम तक होता है। हैम्पशायर नस्ल मांस व्यवसाय के लिए अच्छी होती है। लैंड्रेस नस्ल प्रजनन की दृष्टि से अच्छी होती है।

सुअर पालन के लिए लोन 

सुअर पालन के लिए सरकार कई योजनाएं चला रही है, जिसके तहत सब्सिडी दी जाती है। सुअर पालन के लिए बैंक से लोन भी लिया जा सकता है। आप पशुधन अधिकारी या कृषि विज्ञान केंद्र से संपर्क कर योजनाओं की जानकारी एवं लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

सुअर पालन व्यवसाय में लागत और लाभ

छोटे पैमाने पर सुअर पालन यानी घरेलू उपयोग के लिए 50 हजार तक की लागत आती है लेकिन बड़े पैमाने पर सुअर पालन के लिए शुरुआत में 2 से 3 लाख तक का खर्च आता है। वहीं लाभ की बात करें तो सुअर पालन एक बहुत ही अच्छा व्यवसाय है।

सुअर की चर्बी काफी महंगी बिकती है। इसका उपयोग औषधीय, स्नेहक, क्रीम बनाने में किया जाता है। 2-3 लाख रुपये की लागत के साथ, आप आसानी से एक वर्ष में 3 से 4 लाख रुपये कमा सकते हैं।

Read More

Leave a Comment